Chhattisgarh

केंद्र से माओवाद खत्म करने मिलने वाले फंड से , पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने कवर्धा में ऑफिसर क्लब बनाया

 

कवर्धा जिले में केबी डिवीजन माओवादियों द्वारा फेंके गए पर्चे की घटना पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया

पूर्व की रमन सरकार ने नक्सलवाद को लेकर 15 साल में न कोई ठोस नीति नहीं बनाई न कोई काम किया : सिर्फ दिखावा और भ्रष्टाचार ही भाजपा की नक्सल नीति का पर्याय थे

4 ब्लॉक से 14 जिलों तक माओवाद के विस्तार के लिए भाजपा पूर्व की रमन सरकार जिम्मेदार

रायपुर- कवर्धा जिले में केबी डिवीजन माओवादीयो द्वारा पर्चा फेंकने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि 15 साल में नक्सलवाद को खत्म करने कोई ठोस नीति बनाने में पूर्व की रमन सरकार असफल रही है। राज्य निर्माण के वक्त दक्षिण बस्तर के सीमावर्ती 4 ब्लॉक तक सीमित नक्सलवाद पूर्व रमन सिंह की सरकार में 14 जिलों तक पहुंच गया। रमन सिंह जी के गृह जिलें कवर्धा तक नक्सलवाद पहुंचने के लिए रमन सिंह जी ही जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व की रमन सरकार की नक्सलवाद को खत्म करने की अनिच्छा, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास कार्यों  के नाम से भारी भ्रष्टाचार कमीशन खोरी करने की खोटी नियत और केंद्र से माओवाद को खत्म करने मिलने वाले फंड फंड में हेरा फेरी करने की लालसा ने नक्सलवाद को बीहड़ जंगलों से निकलकर मैदानी इलाकों तक पहुंचने दिया। नक्सलवाद को खत्म करने बतौर सलाहकार नियुक्त हुए पूर्व डीजीपी केपीएस गिल को भाजपा की सरकार ने तनख्वाह लो और मौज करने की सलाह दी। जिसके बाद डीजीपी ने सलाहकार का पद छोड़ दिया। पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने केन्द्र से माओवाद खत्म करने मिले फंड से कवर्धा में ऑफिसर क्लब का निर्माण कर नक्सलवाद को लेकर भाजपा की मानसिकता को स्पष्ट कर दिया था। भाजपा की नीति नक्सलवाद की समस्या को हल करना नहीं बल्कि नक्सलवाद के नाम से भारी भ्रष्टाचार अनियमितताएं करना रहा है। उस दौरान माओवाद समस्या को हल करने केन्द्र से आये फंड का उपयोग अगर माओवाद समस्या को हल करने में किया जाता तो आज छत्तीसगढ़ नक्सल समस्या मुक्त प्रदेश होता। भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में ही नक्सलवाद फलता फूलता रहा है नक्सलवाद को खत्म करने के लिए भाजपा की सरकार में सोच और इच्छाशक्ति की कमी रही है। सत्ता लोलुपता के कारण और नक्सलवाद के साथ अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा का गठबंधन है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि 15 साल की रमन सरकार के दौरान पैर पसार चुके माओवाद की समस्या को हल करने के लिए कांग्रेस की सरकार मजबूत योजना बना रही है मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नक्सलवाद समस्या को जड़ से खत्म करने, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के आम जनता, बुद्धिजीवी, नक्सलवाद से लड़ने वाले जवानों, पत्रकारों, शिक्षकों, डॉक्टरों, युवाओं से चर्चा कर रहे हैं। नक्सलवाद को जड़ से समाप्त करने नीतियां बनाने और जरूरत पड़ने पर नक्सलवाद को उसके ही भाषा में जवाब देने कांग्रेस की सरकार तैयार खड़ी हुई है आने वाले दिनों में छत्तीसगढ़ से  माओवाद की समस्या को हल करना ही कांग्रेस का लक्ष्य है और इसमें हम आम जनता के सहयोग से सफल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *