Chhattisgarh

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ.प्रेमसाय सिंह टेकाम ने नवागांव में किया प्रोटीन युक्त स्वादिष्ट ब्रेकफास्ट का शुभारंभ

पेण्ड्रा विकासखंड के करीब 10 हजार बच्चे आज से होंगे लाभान्वित

पौष्टिक नाश्ता मिलने से बच्चे पढ़ाई में लगायेंगे पूरा मन : श्री टेकाम

बिलासपुर, स्कूल शिक्षा, सहकारिता, पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक विकास, आदिवासी और अनुसूचित जाति विभाग के मंत्री डॉ.प्रेमसाय सिंह टेकाम ने आज बिलासपुर जिले के पेण्ड्रा विकासखंड के ग्राम नवागांव में प्रोटीनयुक्त स्वादिष्ट ब्रेकफास्ट योजना का शुभारंभ किया। इस योजना से पेण्ड्रा विकासखंड के माध्यमिक और प्राथमिक शालाओं के करीब दस हजार बच्चों को लाभ होगा।
पेण्ड्रा विकासखंड के यह योजना पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की गई है। योजना के सफल क्रियान्वयन होने पर इसे पूरे राज्य में लागू किया जायेगा। ग्रामीण, विशेषकर जनजाति बहुल क्षेत्र के बच्चे सुबह स्कूल जाते हैं तब वे पर्याप्त मात्रा में खाकर नहीं जाते। मध्यान्ह भोजन उन्हें दोपहर में डेढ़ बजे मिल पाता है।
भूख के कारण उनका पूरा ध्यान भोजन में रहता है। वे एकाग्रचित्त होकर पढ़ाई में ध्यान केन्द्रित नहीं कर पाते हैं। बच्चे मन लगाकर पढ़ाई कर सकें इस बात को ध्यान में रखते हुए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा पायलट प्रोजेक्ट के रूप में बिलासपुर जिले के पेण्ड्रा और कोरिया जिले के खडगवां विकासखंड की माध्यमिक, प्राथमिक शालाओं के बच्चों को प्रतिदिन प्रोटीनयुक्त ब्रेकफास्ट देने का निर्णय लिया है। इस योजना के तहत इन दोनों विकासखंड के स्कूली बच्चों को प्रार्थना के पश्चात नाश्ता मिलेगा। नाश्ता छत्तीसगढ़ बीज एवं कृषि विकास निगम के द्वारा तैयार किया जाएगा। नाश्ते में उच्च प्रोटीनयुक्त सोया क्रंच, चिवड़ा, हलवा सोया बिस्किट आदि दिया जाएगा।
योजना का शुभारंभ करते हुए श्री टेकाम ने कहा कि पौष्टिक नाश्ता मिलने से बच्चे पूरा मन लगाकर पढ़ाई करेंगे और प्रदेश तथा देश का नाम रौशन करेंगे। कुपोषण दूर करने में यह योजना लाभदायक है। बच्चे स्वस्थ्य रहेंगे तो वे भविष्य में स्वस्थ्य नागरिक बनेंगे।
श्री टेकाम ने बताया कि बच्चों में पढ़ाई के प्रति रूचि पैदा करने और शिक्षा का स्तर उंचा करने के लिये सरकार प्रयासरत है। स्कूल की स्थिति शिक्षक एवं स्कूल की आवश्यकताओं के संबंध में जानकारी प्राप्त करने के लिये एप बनाया गया है। उन्होंने कहा कि कमजोर बच्चों का परीक्षाफल बेहतर बनाने के लिये शिक्षकों को विशेष प्रयास करने की जरूरत है।
इस अवसर पर कलेक्टर डॉ.संजय अलंग ने कहा कि आज एक अच्छी योजना की शुरूआत हो रही है। पौष्टिक नाश्ता बच्चों को सुलभ होगा। उन्होंने कहा कि बच्चों में कुपोषण दूर हो जाये, यह प्रयास समाज को करना चाहिये। सरकार द्वारा भी छत्तीसगढ़ में कुपोषण व एनीमिया को हटाने के लिये अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सुपोषण अभियान को सफल बनाने में जनप्रतिनिधि व समाज के विभिन्न वर्गों की महत्वपूर्ण भूमिका है।
कार्यक्रम में स्वागत उद्बोधन जिला शिक्षा अधिकारी श्री आर.एन.हीराधर ने दिया। उन्होंने बताया कि पेण्ड्रा विकासखंड के 125 प्राथमिक शालाओं के 5 हजार से अधिक और 61 पूर्व माध्यमिक शालाओं के 4 हजार से अधिक बच्चे इस योजना से लाभान्वित होंगे।
कार्यक्रम में शालेय शिक्षा मंत्री श्री टेकाम ने स्कूली बच्चों को पौष्टिक नाश्ता खिलाकर योजना का शुभारंभ किया। इस अवसर पर एसडीएम पेंड्रारोड श्री डिकेश पटेल, बीज विकास निगम की प्रतिनिधि श्वेता जोशी, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री एस.एल.जायसवाल, क्षेत्र के जनप्रतिनिधि, श्री उत्तम वासुदेव, अमोल पाठक आदि गणमान्य नागरिक, शिक्षा विभाग के अधिकारी कर्मचारी, स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाएं, छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *