PPNews24.com

Friday, 03 April, 2020

मायावती ने सुप्रीम कोर्ट में किया भगवान राम से लेकर वाजपेयी तक की कई मूर्तियों का जिक्र


लखनऊ / नई दिल्ली : अपनी और अपने पार्टी के चुनाव चिन्ह हाथी की मूर्तियों पर सुप्रीम कोर्ट के कड़े तेवर से बिफरीं बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने अपनी दलील में भगवान राम से लेकर कई पूर्व प्रधानमंत्रियों तक की मूर्तियों का हवाला दे दिया। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) अध्यक्ष ने पूछा कि अयोध्या में भगवान राम की प्रस्तावित 221 मीटर ऊंची मूर्ति का ऐसा ही विरोध क्यों नहीं हो रहा है?

सुप्रीम कोर्ट को दिए हलफनामे में मायावती ने कहा कि देश में मूर्तियां लगाने की पुरानी परंपरा रही है। उन्होंने अपने वकील शैल द्विवेदी के मार्फत सर्वोच्च अदालत से कहा, ‘भारत में स्मारिकाएं बनवाना और मूर्तियां लगवाना कोई नया फलसफा नहीं है। कांग्रेस के शासन काल में केंद्र और राज्य सरकारों ने देशभर में सरकारी खजाने से जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, पी वी नरसिंह राव की मूर्तियां लगवाईं। लेकिन, इन मूर्तियों को लेकर न तो मीडिया और न ही याचिकाकर्ता ने कोई सवाल उठाया।’

भगवान राम, शिवाजी, पटेल की मूर्तियां क्यों?
मायावती ने इसी क्रम में गुजरात सरकार द्वारा 3,000 करोड़ रुपये की लागत से सरदार पटेल की 182 मीटर ऊंची मूर्ति और मुंबई में शिवाजी महाराज की मूर्तियों का भी जिक्र किया। साथ ही उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार भी भगवान राम की मूर्ति बनाने की योजना पर आगे बढ़ रही है। इसके लिए जमीन अधिग्रहण, डिजाइन डिवेलपमेंट और प्रॉजेक्ट रिपोर्ट आदि पर 200 करोड़ रुपये की शुरुआती लागत आएगी।

0 comments on “मायावती ने सुप्रीम कोर्ट में किया भगवान राम से लेकर वाजपेयी तक की कई मूर्तियों का जिक्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *